Saturday, February 28, 2015

बजट : कही घातक न हो जाएं कुछ बड़ी कंपनियां

(डॉ राज कुमार सिंह)

सरकार के बजट में निवेश को बढ़ाने लिए उठाये गए कदम जहा सराहनीय है वही सर्विस टैक्स को बढ़ा कर सरकार ने इस क्षेत्र को दबाने का काम किया है।  इस क्षेत्र को दबाकर सरकार द्वारा विनिर्माण क्षेत्र में कुछ बड़ी कंपनियों को बढ़ावा देने का निर्णय भविष्य में घातक सिद्ध हो सकता है।बड़ी कंपनियों के विस्तार से छोटे और मझोले उद्योगों पर विपरीत असर पड़ेगा।भारत को बढ़ाना है तो छोटे उद्योगों को रियायत और प्रोत्साहन देना ही होगा।विकास सभी वर्ग का होगा तभी देश तरक्की करेगा ।चंद प्रतिशत लोगों के पास आज देश की कुल पूंजी का 80 % से अधिक हिस्सा है। बजट में बड़ी कंपनियों पर कर बढ़ाया जाना चाहिए था।हा सरकार द्वारा तकनीक आधारित उद्योगों को कुछ रियायतें इस क्षेत्र का विकास और आत्मनिर्भरता की ओर अवश्य देश को अवश्य भविष्य में ले जाएंगी।सरकार का डायरेक्ट बेनिफिट ट्रान्सफर योजना भी अच्छा कदम है।इससे तीसरे व्यक्ति का अनावश्यक दखल खत्म होगा।हा कोयला खदानों की खुली सर्वाजनिक नीलामी से अवश्य लाभ होगा।


No comments:

Post a Comment